कोरोना प्रभावित 15 जिले आज रात से पूरी तरह सील होंगे; मेरठ-आगरा में दो-दो संक्रमित मिले



उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक,बुधवार सुबहमेरठ में दो और आगरा में दो संक्रमित मिले।इसके साथप्रदेश में संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 343 तक पहुंच गई है। उधर, सरकार नेआज रात 12 बजे से 13 अप्रैल तक कोरोना प्रभावित15 जिलों को पूरी तरह से सील करने का फैसला किया है। इन जिलों में अब लोगों को घरों से निकलने की इजाजत नहीं होगी। सिर्फ मीडिया, मेडिकल व पुलिस वालों को ही घर से निकलने की इजाजत होगी। 15 जिलों में लखनऊ, आगरा, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, कानपुर, वाराणसी, शामली, मेरठ, बरेली, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, महाराजगंज, सीतापुर, बस्ती और सहारनपुर शामिल हैं। 13 अप्रैल को समीक्षा के बाद आगे का फैसला लिया जाएगा।

सबसे ज्यादा संक्रमित आगरा में

उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा संक्रमित आगरा में हैं। यहां 64लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा नोएडा में 58, लखनऊ में 24, गाजियाबाद में 23, लखीमपुर खीरी में 4, कानपुर में 8, पीलीभीत में 2, मुरादाबाद में 1, वाराणसी में 7, शामली में 17, जौनपुर में 3, बागपत में 2, मेरठ में 34, बरेली में 6, बुलन्दशहर में 5, बस्ती में 8, हापुड़ में 3, गाजीपुर में 5, आज़मगढ़ में 4, फिरोजाबाद में 7, हरदोई में 1, प्रतापगढ़ में 3, सहारनपुर में 13 व शाहजहांपुर में 1, बांदा में 2, महराजगंज में 6, हाथरस में 4, मिर्जापुर में 2, रायबरेली में 2, औरैया में 1, बाराबंकी में 1, कौशाम्बी में 1, बिजनौर में 1, सीतापुर में 8, प्रयागराज में 1, मथुरा में 2 और बदायूं में 1 मरीज की रिपोर्ट पॉजिटिव है।

नोएडा में 200 लोगों को क्वारैंटाइन किया गया

नोएडा के सेक्टर 8 और सेक्टर 5 में रहने वाले तकरीबन 200 लोगों को क्वारैंटाइनकिया गया है। ये लोग सेक्टर 8 और सेक्टर 5 में रहने वाले 30 परिवारों सेहैं। अधिकारियों ने बताया कि इनमें से किसी में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि नहीं हुई है। सभी लोगों को एहतियात के तौर पर क्वारैंटाइन किया गया है।

नोएडा के सेक्टर आठ और पांच में लगभग 200 लोगों को क्वारैंटाइन सेंटर में भेजा गया है। आशंका है कि ये लोग जमातियों के सम्पर्क में आए हैं। संदिग्ध होने की वजह से स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनको क्वारैंटाइन कराया है।
नोएडा के सेक्टर आठ और पांच में लगभग 200 लोगों को क्वारैंटाइन सेंटर में भेजा गया।

मथुरा:गंगा के बाद अब मथुरा में यमुना में प्रदूषण कम हुआ

लॉकडाउन की वजह से लोग अपने घरों में कैद हैं। कुछ दिन पहले वाराणसी में विशेषज्ञों ने दावा किया था कि भीड़ बाहर न निकलने की वजह से गंगा के जल में 40 से 50 फीसदी प्रदूषण कम हुआ है। ठीक ऐसा ही कुछ मथुरा में देखने को मिल रहा है। यहां भी यमुना का पानी साफ हुआहै। लोगों का कहना है- लॉकडाउन की वजह से सारे उद्योग और फैक्ट्रियांबंद हैं, जिसकी वजह से ऐसा हुआ है।

वाराण में जिस तरह से गंगा में प्रदूषण कम होने की बात सामने आयी थी उसी तरह लॉकडाउन की वजह से मथुरा में भी यमुना के पानी में प्रदूषण घटने का दावा किया गया है।
वाराणसी में जिस तरह से गंगा में प्रदूषण कम हुआ उसी तरह लॉकडाउन में मथुरा में भी यमुना से भी प्रदूषण घटने का दावा किया गया है।

फिरोजाबाद में 27 जमातियोंके खिलाफ केस दर्जकिया गया

फिरोजाबाद में अस्पताल में27 तब्लीगी जमातियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। इन परथूकने का आरोप था। सभी जमातियों कोचार अप्रैल को फिरोजाबादमें भर्ती किया गया था।

फिरोजाबाद में अस्पताल में गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ पुलिस ने सख्त रुख अपनाया है। पुलिस ने यहां 27 जमातियों के खिलाफ केस दर्ज किया है।
फिरोजाबाद में अस्पताल में गंदगी फैलाने वाले 27 जमातियों के खिलाफ केस दर्ज किया है।

पुलिसकर्मियों को 50 लाख का इंश्योरेंस

प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (गृह और सूचना) अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिसकर्मियों को ₹50 लाख का इंश्योरेंस दिए जाने के आदेश दिए हैं। इससे पहले पंजाब सरकार भी पुलिसकर्मी और सफाई कर्मचारियों को 50 लाख का अतिरिक्त हेल्थ इंश्योरेंस देने का ऐलान कर चुकी है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


नोएडा में बुधवार को स्वास्थ्य कर्मियों ने दवा का छिड़काव किया। शहर में अब तक 58 मामले सामने आ चुके हैं।

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *