साहिबाबाद थाना पुलिस क्यों नहीं सुनती एसएसपी गाजियाबाद की

ghaziabad policeगाजियाबाद (05 जनवरी 2018)- साहिबाबाद थाने की पुलिस शायद एसएसपी के आदेशों को भी गंभीरता से नहीं लेती। जिसका एक सबूत देखने को मिला साहिबाबाद में। दरअसल साहिबाबाद पुलिस ने साहिबाबाद थाना क्षेत्र में डीजे बजाने का विरोध करने पर कुछ युवकों ने एक युवती के साथ न केवल मारपीट की थी बल्कि उसके कपड़े तक फाड़ दिए थे। इस संबंध में एसएसपी ने साहिबाबाद पुलिस को रिपोर्ट दर्ज करने की निर्देश दिए थे लेकिन पांच दिन बाद भी रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। आज पीड़ित युवती एक बार फिर एसएसपी से मिली।
अब तक कार्रवाई न होने से आरोपियों के हौसले बुलंद है और वह पीड़िता पर समझौते का दबाव बना रहे हैं। उसके चेहरे पर तेजाब फेंकने की धमकी दे रहे है। जिससे जहां पीड़िता व उसके परिजन डरे-सहमे है वहीं पुलिस के प्रति आक्रोश व्याप्त है।
बता दें कि शालीमार गार्डन में (सभी नाम काल्पनिक) 20 वर्षीय सरिता त्यागी अपनी बुजुर्ग बीमार मां शांति त्यागी के साथ रहती है। कुछ दिन पूर्व पड़ोस में रहने वाले प्रदीप, कुलदीप और उनके साथियों ने तेज आवाज में डीजे बजा रखा था। सभी शराब के नशे से धुत्त थे और आने जाने वाली बहन-बेटियों से छींटाकशी कर रहे थे। शांति को डीजे की आवाज से दिक्कत हुई तो सरिता ने डीजे की आवाज कम करने को प्रदीप और कुलदीप से कहा। जिस पर दोनों भाई और उनके दोस्त भड़क गए। उसके साथ काफी गाली गलौच की, उसके कपड़े तक फाड़ दिए और उसका पीछा करते हुए घर में घुस गए। उसके साथ दुष्कर्म का भी प्रयास किया गया। मां शांति ने चीख पुकार मचाई तो प्रदीप, कुलदीप ने शांति को चांटे जड़ दिए। किसी तरफ आसपास के लोगों ने मां बेटी को दबंगो से बचाया। जिसके बाद सरिता ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। सरिता ने बताया कि जिप्सी पर दो सिपाही थे जिनके साथ दोनों भाई और उनके साथियों ने अभ्रदता की तथा वापस जाने की धमकी दी। पुलिस एक आरोपी को थाने ले गई किंतु घूस लेकर उसे छोड़ दिया। सरिता का कहना है कि आरोपी भाईयों ने पुलिस से शिकायत करने पर तेजाब डालने की धमकी दी है। पीड़िता ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचकर न्याय की गुहार लगाई है। जिस पर एसएसपी हरि नारायण सिंह ने आरोपियों को पकड़ने के निर्देश दिए मगर आज तक कोई कार्यवाही नही की गई है। जिसके चलते आरोपियों के हौसले बुलंद है और वह लगातार समझौते का दबाव बना रहे हैं।
उधर, पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। इसके बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *