विवाद के बाद छोड़े गए व्यक्ति ने बताया- नेपाल पुलिस मुझे भारतीय सीमा से घसीटकर ले गई, राइफल की बट से मारा



बिहार में सीतामढ़ी जिले केजानकी नगर स्थित लालबंदी बॉर्डर के पास शुक्रवार सुबह 9:30 बजे गांववालोंऔरनेपाल सशस्त्र बल के जवानों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। नेपाली पुलिस की फायरिंग में एक भारतीय की मौत हो गई, जबकि दो जख्मी हो गए। यहां के लगन राय को नेपाल पुलिस उठाकर ले गई थी। भारत और नेपाल के अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद शनिवार को नेपाल पुलिस ने लगन को छोड़ दिया।

भारत आकर लगन ने शुक्रवार को हुई घटना के बारे में बताया। लगन ने कहा कि नेपाल की पुलिस मुझे उठाकर संग्रामपुर ले गई। मुझे राइफल की बट से मारा गया। यह कबूलने के लिए दबाव बनाया कि पुलिस ने मुझे नेपाल में पकड़ा। जबकि सच्चाई यह है कि पुलिस मुझे भारत से उठाकर ले गई थी।

बहू नेपाल की, वहबॉर्डरपर मां से मिलने गई थी
लगन ने कहा कि मेरे बेटे की शादी नेपाल की लड़की से हुई है। बॉर्डर पर उसकी पत्नीअपनी मां से मिलने गई थी। मेरा बेटा भी उसके साथ गया था। बॉर्डर पर नेपाल पुलिस ने रोक लिया। नेपाल पुलिस ने मेरे बेटे को डंडों से पीटा। सूचना मिली तब मैं वहां पहुंचा। नेपाल पुलिस से पिटाई की वजह पूछी तो मेरे साथ भी बदसलूकी की गई।बॉर्डर पर मौजूद नेपाल पुलिस के अफसर ने 10 जवानों को मौके पर बुलाया। इन्हीं जवानों ने बॉर्डर पार से फायरिंग की, जिसमें एक अन्य व्यक्ति की मौत हो गई।

नेपाल पुलिस की पिटाई से लगन राय की पीठ पर बने निशान।

यह है मामला
नेपाल की तरफ से शुक्रवार को सोनबरसा के जानकी नगर स्थित बॉर्डर पर फायरिंग हुई थी। इसमें एक युवक की मौत हो गई। तीन घायल हुए। दो लोगों की हालत गंभीर बताई गई है। जानकीनगर बिहार के सीतामढ़ी जिले में आता है। सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के डीजी कुमार राजेश चंद्रा ने कहा था- यह आपसी विवाद का मामला है। रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्रालय को भेज दी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


भारत और नेपाल के अधिकारियों के बीच बातचीत के बाद नेपाल पुलिस ने शनिवार को लगन राय को छोड़ दिया।

About The Author

Originally published on www.bhaskar.com

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *