चीन ने थर्मल इमेजिंग ड्रोन से भारतीय जवानों की संख्या पता की, फिर अपने सैनिक बढ़ाकर हमला कर दिया; हमारे जवान 8 घंटे तक निहत्थे लड़ते रहे



भारत-चीन के सैनिकों के बीच लद्दाख में सोमवार रात हुई झड़प चीन की सोची-समझी साजिश थी। न्यूज एजेंसी आईएएनएस ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि चीन ने थर्मल इमेजिंग ड्रोन से भारतीय जवानों को ट्रेस किया था, फिर अपने सैनिक बढ़ाकर हमला कर दिया। जब झड़प हुई थी तो चीन के सैनिकों की संख्या भारतीय जवानों से 5 गुना ज्यादा थी।

कुछ भारतीय जवानों को आखिरी सांस तक टॉर्चर किया
रिपोर्ट के मुताबिक चीन के सैनिक भारतीय जवानों पर जंगलियों की तरह टूट पड़े। कुछ जवानों के मुंह पर बंदूक अड़ाकर उन्हें आखिरी सांस तक टॉर्चर करते रहे। चीन के सैनिकों ने सभी तरह के हथियार इस्तेमाल किए। दूसरी ओर भारतीय जवान हथियारों का इस्तेमाल नहीं करना चाहते थे। फिर भी वे बहादुरी से लड़ते हुए हालात संभालने की कोशिश करते रहे।

करीब 8घंटे तक झड़प हुई
चीन के हमले में शहीद हो चुके कर्नल संतोष बाबू झड़प से पहले अपने साथियों को लेकर यहदेखने गए थे कि वादे के मुताबिक चीन ने अपने सैनिक हटाए हैं या नहीं? इस बीच, चीन के सैनिकों ने भारतीय जवानों को घेरकर हमला कर दिया। दोनों के बीच सोमवार शाम 4 बजे से रात 12 बजे तकयानी 8 घंटे तक झड़प होती रही।

चीन के भी 40 सैनिक मारे जाने की खबर
चीन के साथ झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए, 135 जख्मी हैं। इनमें से 4 की हालत गंभीर है। भारतीय जवानों की पार्थिव देह और घायल जवानों को लाने के लिए मंगलवार को सेना के हेलिकॉप्टर्स ने 16 बार उड़ान भरी। चार जवानों की देह बुधवार को लेह पहुंचाई गई। चीन के भी 40 सैनिक मारे जाने की खबर है, लेकिन उसने यह कबूला नहीं है।

यह फोटो चीन के साथ झड़प में शहीद हुए एक सैनिक की पार्थिव देह की है। बुधवार को आर्मी के जवान शहीदों के शव को लेह के सोनम नोरबू अस्पताल ले गए, ताकि वहां ऑटोप्सी हो सके।

भारत-चीन विवाद से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1.पिछले महीने भारत-चीन के सैनिक 3 बार आमने-सामने आए; इस महीने 4 मीटिंग के बाद तनाव कम हुआ था, चर्चा जारी थी लेकिन हिंसक झड़प हो गई

2.गलवानके 20 शहीदों के नाम: शहीद 20 सैनिक 6 अलग-अलग रेजिमेंट के थे

3.भारत-चीन झड़प पर 36 घंटे बाद सरकार का बयान: राजनाथ ने कहा- सैनिकों की शहादत बहुत दर्दनाक

4.एक्सप्लेनर: चीन के साथ विवाद की पूरी कहानी; 58 साल में चौथी बार एलएसी पर भारतीय जवान शहीद

5.7600 करोड़ रु. या उससे ज्यादा वैल्यू वाले भारत के 30 में से 18 स्टार्टअप में चीन की हिस्सेदारी

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


यह सैटेलाइट इमेज गलवान वैली की है, जहां भारत-चीन के सैनिकों में झड़प हुई। (क्रेडिट: प्लेनेट लैब्स/रॉयटर्स)

About The Author

Originally published on www.bhaskar.com

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *