देश के विकास इंजन को पुनर्जीवित करने के लिए नए अवसर पैदा करने होंगे।

(वर्तमान स्थिति निवेश को बढ़ावा देने, मौजूदा नौकरियों की रक्षा करने और नई नौकरियां पैदा करने के लिए साहसिक कदम उठाने का अवसर प्रस्तुत करती है।)
कोविद-19 महामारी ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को बदल दिया है और भारत में भी इसके गहरे प्रभाव पड़े है। राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की वजह से घरेलू मांग में कमी ने अर्थव्यवस्था को 2020-21 की पहली तिमाही में संकुचित कर दिया है और इसके प्रभाव भविष्य में दिखने की संभावना है। फिर भी श्री नरेंद्र मोदी ने वायरस के प्रकोप को कम करने के लिए स्वास्थ्य और आर्थिक दोनों दृष्टिकोण से निर्णायक और सराहनीय कार्रवाई की है। मगर दुनियाभर में कोरोनावायरस इलाज के अभाव ने लोगों की चिंताओं को बढ़ा दिया है। भारत में लोगों में इस तरह की चिंता की भावना जबरदस्त उथल-पुथल पैदा कर सकती है। नतीजतन ये हमारी आजीविका और बड़ी अर्थव्यवस्था को प्रभावित करेगा।
12 मई, 2020 को हमारे माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ के कुल मूल्य के एक महामहिम कोरोनोवायरस प्रोत्साहन पैकेज का अनावरण किया, जो सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 10%है, यह दुनिया की सबसे बड़ी राहत योजनाओं में से एक है। ये प्रोत्साहन पैकेज व्यवसायों को पुनर्जीवित करने में मदद कर सकता है, जो कि पैसों के अभाव में मुश्किल हो रहा है। भारत के 60,000-विषम स्टार्ट-अप एक तीव्र तरलता की कमी का सामना कर रहे हैं। वर्तमान स्थिति निवेश को बढ़ावा देने, मौजूदा नौकरियों की रक्षा करने और नई नौकरियां पैदा करने के लिए साहसिक कदम उठाने का अवसर प्रस्तुत करती है।
आज बड़े व्यावसायिक घरानों को सरकार द्वारा प्रोत्साहन के माध्यम से फिर से खोलने या कच्चे माल या अन्य वस्तुओं और सेवाओं की खरीद में आसानी के लिए प्रयास किया जाना चाहिए, क्योंकि इससे उपभोक्ता मांग में वृद्धि होगी और विक्रेता या सहायक उद्योग के कामकाज को बढ़ावा मिलेगा। (जिसमें रोजगार सृजन की बड़ी संभावनाएं हैं)। आरबीआई को सभी बैंकों द्वारा आवश्यकतानुसार, व्यापार ऋण के पुनर्गठन के लिए सिंगल वन टाइम विंडो पर विचार करना चाहिए। बैंकों को आश्वस्त करने की तत्काल आवश्यकता है, कि उनके व्यापारिक निर्णयों पर सवाल नहीं उठाया जाएगा, जिससे ऋण प्रवाह को प्रोत्साहित किया जा सके।
चीन से विनिर्माण को भारत में स्थानांतरित करने के इच्छुक, केंद्र उन कंपनियों का कम से कम 60 प्रतिशत प्राप्त करने पर एक पंचवर्षीय योजना तैयार कर सकता है। भारत को एक वैश्विक व्यापारिक केंद्र बनाने हेतु भारत को वैश्विक व्यापार संचालन स्थापित करने वाली कंपनियों के लिए एक प्रोत्साहन शासन तैयार करना होगा। राज्यों को स्व-निहित “औद्योगिक शहरों” को स्थापित करने के बारे में सोचना चाहिए जो विनिर्माण, वाणिज्यिक, शैक्षिक, आवासीय और सामाजिक बुनियादी ढांचे के लिए स्थान निर्धारित करते हैं। सरकार द्वारा पहचाने गए 10 क्षेत्र – इलेक्ट्रिकल, फार्मास्यूटिकल्स, चिकित्सा उपकरण, मोटर वाहन, खनन, इलेक्ट्रॉनिक्स, भारी इंजीनियरिंग, नवीकरणीय ऊर्जा, खाद्य प्रसंस्करण, रसायन और वस्त्र मेक इन इंडिया अभियान में फिट होते हैं। इनमे जापान, अमेरिका और दक्षिण कोरिया पहले ही रुचि दिखा चुके हैं।
बैटरी विनिर्माण (भंडारण प्रणाली) / सौर पैनल निर्माण की फिर से कल्पना के हिस्से के रूप में प्रोत्साहित करना चाहिए। सरकार “डीप टेक” -लवरेज व्यवसायों – ब्लॉकचैन, रोबोटिक्स, एआई, मशीन लर्निंग, संवर्धित वास्तविकता, बड़े डेटा एनालिटिक्स, साइबर सुरक्षा, आदि को प्रोत्साहन देने पर भी विचार कर सकती है। भारत वैश्विक स्तर पर शीर्ष स्टार्ट-अप इकोसिस्टम में शामिल है। स्टार्ट-अप न केवल नवाचार को चलाने में मदद करते हैं, बल्कि रोजगार भी पैदा करते हैं, जो आगे जाकर बहुत महत्वपूर्ण होगा। सरकार को स्टार्ट-अप इकोसिस्टम को महत्वपूर्ण सहायता प्रदान करने की आवश्यकता है।
ऑटो उद्योग जो जीडीपी (लगभग 9%) में महत्वपूर्ण योगदान देता है, इसलिए ये विशेष उपचार का हकदार है। जीएसटी दर को कम करने के अलावा, नए वाहनों की मांग बनाने के लिए कर प्रोत्साहन के साथ पुरानी वाहन स्क्रैप नीति तैयार की जा सकती है। ऑटो सेल्स इंडस्ट्री चैनल भागीदारों को एमएसएमई के रूप में मान्यता देने की आवश्यकता है और उनमे भारतीय प्रवासी के प्रत्यक्ष निवेश को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए, विदेशी सहायक कंपनियों से लाभांश पर सकल आधार पर 15% की मौजूदा दर को घटाकर 5% करने की जरूरत है। इससे धन की अधिक आमद होगी और इससे स्थानीय परियोजनाओं को समर्थन मिलने की उम्मीद जागेगी। घरेलू संस्थानों के साथ विदेशी कानूनी फर्मों और बैंकों को ऑफ-शोर केंद्र में उपस्थिति के लिए आमंत्रित किया जा सकता है।
किसी भी देश के विकास इंजन को पुनर्जीवित करने के लिए बहुत कुछ किया जाना चाहिए। आज के इस महत्वपूर्ण मोड़ पर, भारत को वर्तमान संकट को सफलतापूर्वक नेविगेट करने और उसके बाद दृढ़ता से उबरने के लिए दोतरफा रणनीति की आवश्यकता है। पहला, कोविद के कारण होने वाले नुकसान को कम करना और दूसरा तुरंत नए अवसरों का फायदा उठाकर पुनर्प्राप्ति के लिए एक रास्ता साफ करना। इस रणनीति पर तुरंत काम होना चाहिए।
— डॉo सत्यवान सौरभ—

employement after covid-19 covid effect on employment
employement after covid-19 covid effect on employment

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *