दिल्ली हिंसा पर सर्वदलीय व उच्च स्तरीय न्यायिक जांच हो:वोटर्स मंच

who burn delhi?

नई दिल्ली-देश के सबसे अधिक पढ़े लिखे मुख्यमंत्री माने जाने वाले अरविंद केजरीवाल ने देश में सबका साथ सबका विकास के साथ साथ सबका विश्वास जैसे सुंदर नारा देने वाले पीएम नरेंद्र मोदी से मिलकर दिल्ली पुलिस द्वारा तुंरत कार्रवाई करने पर बाक़ायदा महंगा वाला गुलदस्ता देकर तारीफ की है। हो सकता है ये ख़बर आपने भी मेरी तरह किसी राष्ट्रीय अख़बार मे देखी हो। लेकिन मुझ जैसे सीमित समझ वाले इंसान की समझ में भी ये बात नहीं आ रही कि देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के घर और ऑफिस से चंद किलोमीटर दूर, देश की सर्वोच्च अदालत और संसद से महज़ कुछ ही दूर, ख़ुद इन्ही केजरीवाल जी यानि दिल्ली के सीएम के घर और कार्यालय से भी कुछ ही किलोमीटर दूर, और तो और दिल्ली पुलिस, सीबीआई, एनआईए और देश के हाइलेवल विभागों के हैडक्वार्टर्स से भी कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर कई मस्जिद और मज़ार जला दिये गये, क़ुरान जला दिये गये, मंदिर को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई, एक मस्जिद की मीनार पर कई दिन तक भगवा झंडा फहराता रहा, आईबीकर्मी अंकित शर्मा और दिल्ली पुलिस के हैडकांस्टेबल रतन लाल समेत 49 लोगों की हत्या के बाद उनके परिवार अनाथ हो गये। इन्ही केजरीवाल साहब के सबसे करीबी रहे और दंगा भड़काने के आरोपी कपिल मिश्रा पर हुई कार्रवाई को देखने के बाद भी अगर केजरीवाल को उसी दिल्ली पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई तुंरत दिख रही है, जिसको काबू करने के लिए ये धरने तक पर बैठे रहे। तो अरविंद केजरीवाल जी शायद आपको अपनी नज़र और नज़रिए दोनों का इलाज किसी मुहल्ला क्लीनिक में कराने की जरुरत है।
बहरहाल जनता समझदार भले ही हो लेकिन अब अरविंद केजरीवाल जी के पिछले कार्यकाल जैसे कथित खेल-तमाशे पूरे पांच साल तक देखने के अलावा उसके पास कोई चारा है भी नहीं।
लेकिन इस बीच वोटर्स मंच के संयोजक आज़ाद ख़ालिद ने महामहिम राष्ट्रपति महोदय को एक पत्र लिखकर दिल्ली हिंसा की जांच पुलिस कार्रवाई और सोशियल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वालों के खिलाफ पारदर्शिता के साथ सर्वदलीय व उच्च स्तरीय टीम की निगरानी में कार्रवाई की मांग की है। साथ ही पत्र में कुछ लोगों द्वारा अल्पसंख्यको खासतौर से मुस्लिम समाज का व्यापारिक और नौकरी देने तक का बहिष्कार करने का आह्वाहन करने की मुहिम की गंभीरता से भी अवगत कराया गया है। वोटर्स मंच के संयोजक आजाद खालिद का मानना है कि रोजगार किसी भी समाज की तरक्की के अलावा देश की खुशहाली के लिए भी आवश्यक है, जबकि किसी को बेरोजगार करना देश की तरक्की में बाधा डालने के साथ साथ, कई प्रकार के अपराध और आंतकवाद जैसी गंभीर समस्याओं को जन्म देने की कोशिश है।
वोटर्स मंच के संयोजक आजा़द खालिद ने पुलिस और जांच ऐजेंसियों द्वारा सोशियल मीडिया पर नज़र रखने और भड़ाकाऊ पोस्ट डालने वालों के खिलाफ कार्रवाई के दावों पर सवाल उठाते हुए कुछ लोगों द्वारा की गईं दर्जनो भड़काऊ पोस्ट संल्गन करते हुए कार्रवाई की मांग के साथ महामहिम को भेजी हैं। वोटर्स मंच के संयोजक आजा़द खा़लिद ने अपनी शिकायत की प्रतिलिपि पीएमओ, माननीय सुप्रीमकोर्ट, कैबिनेट और लोकसभा व राज्यसभा अध्यक्षों के अलावा नेता प्रतिपक्ष को भी भेजी हैं।
अपोज़िशन न्यूज डॉट कॉम के लिए आज़ाद खालिद की रिपोर्ट

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *