अब तक 76 लाख से ज्यादा संक्रमित, इनमें 52% मामले केवल टॉप-5 देशों में; अमेरिका में सबसे ज्यादा मरीज



दुनिया में कोरोनावायरस से अब तक 4 लाख 26 हजार 152 लोगों की मौत हो चुकी है। 38 लाख 87 हजार 741 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं संक्रमितों का आंकड़ा 76 लाख 75 हजार 768 हो गया है। इनमें अमेरिका, ब्राजील, रूस, भारत और ब्रिटेन में कुल मामले 52% यानी 40 लाख 22 हजार से ज्यादा हो गए हैं। सबसे ज्यादा21 लाख मरीज अमेरिका में हैं। यहां 1.16 लाख लोगों की जान जा चुकी है।

कोरोनावायरस : 10 सबसे ज्यादा प्रभावित देश

देश

कितने संक्रमित कितनी मौतें कितने ठीक हुए
अमेरिका 21,04,016 1,16,481 8,19,375
ब्राजील 8,09,398 41,162 3,96,692
रूस 5,11,423 6,715 2,69,370
भारत 3,09,389 8,890 1,54,131
ब्रिटेन 2,92,950 41,481 उपलब्ध नहीं
स्पेन 2,90,289 27,136 उपलब्ध नहीं
इटली 2,36,305 34,223 1,73,085
पेरू 2,14,788 6,109 1,02,429
जर्मनी 1,87,010 8,854 1,71,600
ईरान 1,82,525 8,659 1,44,649

ये आंकड़ेhttps://www.worldometers.info/coronavirus/से लिए गए हैं।

इटली: प्रधानमंत्री से पूछताछ

इटली के प्रधानमंत्री ग्युसेप कोंटे से शुक्रवार को रोम में लॉकडाउन को लेकर तीन घंटे तक पूछताछ की गई। महामारी में जान गंवाने वाले लोगों के परिजन ने सरकार पर कोताही बरतने का आरोप लगाया है। साथ ही जांच की मांग की है। लोगों का कहना है कि सरकार ने देश में सबसे ज्यादा संक्रमित लोम्बार्डी में लॉकडाउन लगाने में तेजी नहीं दिखाई। प्रॉसिक्यूटर्स ने गृहमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री से भी पूछताछ की। प्रधानमंत्री का कहना है कि लोम्बार्डी में विपक्षकी सरकार है। उन्हें लॉकडाउन लगाने का पूरा अधिकार था। यहांबोरगैमो शहर में सबसे ज्यादा लोगों की मौत हुई।

इटली के बोरगैमो शहर की प्रोसिक्यूटर मारिया क्रिस्टिना प्रधानमंत्री ग्युसेप कोंटे से पूछताछ के बाद मीडिया से बात करती हुई।

यूक्रेन : 29 हजार से ज्यादा मरीज
यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमीर जेलेंस्की की पत्नी ओलेना संक्रमित पाई गईहैं। उन्होंने फेसबुक पोस्ट के जरिए ये जानकारी दी। उनके पति और बच्चे संक्रमित नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मैं और मेरे परिवार में सभी नियमों कापालन कर रहे हैं। हमेशा मास्क और ग्लब्स पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के बाद भी मेरा रिजल्ट पॉजिटिव आया है। उन्हें अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया है। वेघर में ही आइसोलेशन में रहेंगी। देश में 29 हजार से ज्यादा केस मिल चुके हैं, जबकि 780 लोगों की मौत हुई है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमीर जेलेंस्की पत्नी ओलेना के साथ। ओलेना ने फेसबुक पोस्ट के जरिए खुद के संक्रमित होने की जानकारी दी। (फाइल फोटो)

न्यूयॉर्क : स्विमिंग पूल और मैदान खुलेंगे

अमेरिका में महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूयॉर्क राज्य ने अपने नागरिकों को राहत का ऐलान किया है। गवर्नर एंड्रयू क्यूमो के मुताबिक, पब्लिक स्विमिंग पूल्स और खेल के मैदान यानी प्लेग्राउंड्स अब आम लोगों के लिए खोल दिए जाएंगे। इनके इस्तेमाल के लिए कुछ सावधानियां रखनी होंगी। क्यूमो ने साफ कर दिया कि अगर शहर का कोई हिस्सा क्लस्टर है तो वहां पूल या ग्राउंड नहीं खोले जाएंगे। बुधवार को न्यूयॉर्क राज्य में 736 नए मामले सामने आए। कुल संक्रमितों की संख्या 3 लाख 80 हजार 892 हो गई।

न्यूयॉर्क सिटी के लागार्डिया एयरपोर्ट पर कोरोना पर न्यूज कॉन्फ्रेंस से पहले मास्क हटाते गवर्नर एंड्रयू क्यूमो।

मलेशिया : हज यात्रा को मंजूरी नहीं
धार्मिक मामलों के मंत्री जुल्किफी मोहम्मद अल बाकरी ने गुरुवार रात साफ कर दिया कि इस साल मलेशिया का कोई नागरिक हज यात्रा पर नहीं जाएगा। एक अखबार को दिए इंटरव्यू में बाकरी ने कहा- हज यात्रा से संबंधित फैसला किंग अब्दुल्ला से बातचीत और उनकी सहमति के बाद लिया गया है। सभी जानते हैं कि यह देश ही नहीं बल्कि दुनिया के लिए भी बेहद मुश्किल वक्त है। मलेशिया के पहले इंडोनेशिया, सिंगापुर, कम्बोडिया, थाईलैंड और ब्रुनेई भी इस साल हज यात्रा पर रोक लगा चुके हैं।

यह फोटो फोटो मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर की है। यहां प्रतिबंधों में ढील मिलने के सैलून और अन्य दुकानें खुल चुकी हैं। हालांकि, सरकार ने इस बार हज यात्रा पर रोक लगा दी है।

ब्राजील : 29 जुलाई तक अमेरिका से भी जयादा मौतें होंगी

वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी के इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवॉल्यूएशन (आईएचएमई) ने दावा किया है कि ब्राजील में संक्रमण के मामले तेजी सेबढ़ते रहे तो 29 जुलाई तक यहां अमेरिका से भी ज्यादा मौतें होंगी। 29 जुलाई तक ब्राजील में 1 लाख 37 हजार 500 से ज्यादा जानें जाएंगी, जबकि अमेरिका में 1.37 लाख मौतें हो सकती हैं।देश में संक्रमण के 8 लाख से ज्यादा मामले हो गए हैं। 24 घंटे में यहां 30 हजार 412 मरीज सामने आए।पांच दिन से यहां हर रोज 30 हजार से ज्यादा संक्रमितों की पुष्टि हो रही है। मरने वालों का आंकड़ा भी 40 हजार से ज्यादा हो गया है।

ब्राजील में संक्रमण बेकाबू होता नजर आ रहा है। सरकार का विरोध भी तेज हो गया है। गुरुवार को राजधानी रियो डि जेनेरियो के कोपाकाबाना बीच पर एक एनजीओ के लोगों ने करीब 100 कब्र तैयार कीं। इनका कहना है कि महामारी से लोग मर रहे हैं और सरकार नाकाम रही है। इसलिए ये कब्र काम आएंगी।

इजराइल : 214 नए मामले
25 अप्रैल के बाद इजराइल में पहली बार 200 से ज्यादा मामले सामने आए। गुरुवार को यहां 214 नए संक्रमितों की पुष्टि हुई। यह जानकारी हेल्थ मिनिस्ट्री ने एक बयान में दी। देश में संक्रमितों की संख्या अब 18 हजार 569 हो गई है। 24 घंटे में मरने वालों का आंकड़ा 299 से 300 हो गया। अब तक 15 हजार 250 लोग स्वस्थ हुए हैं। कुल एक्टिव केस 3019 हैं। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि अगर मामले बढ़ते रहे तो जो पाबंदियां हटाई गई हैं, वह फिर लगाई जा सकती हैं।

नेपाल : बंदिशें हटाई जाएंगी
यहां 24 मार्च से जारी लॉकडाउन अब धीरे-धीरे हटाया जाएगा। हालांकि, इसके पहले हेल्थ मिनिस्ट्री नई गाइडलाइंस जारी करेगी और इसका सख्ती से पालन करना जरूरी होगा। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सबसे पहले कारोबारी गतिविधियां शुरू की जाएंगी ताकि अर्थव्यवस्था को सुधारा जा सके। नेपाल में गुरुवार तक कुल 4614 मामले सामने आए। इस दौरान 15 लोगों की मौत भी हुई।

बचाव के लिए मास्क सबसे ज्यादा उपयोगी
टेक्सॉस और कैलिफोर्निया में हुई एक स्टडी में कहा गया है कि वायरस हवा के जरिए सबसे तेजी से फैलता है। लिहाजा, मास्क ही संक्रमण से बचने का सबसे बेहतर तरीका है। एटमॉस्फेरिक साइंस के रिसर्चर रेन्यी झांग की टीम ने इटली और न्यूयॉर्क में मास्क को अनिवार्य बनाए जाने के पहले और बाद के नतीजों का अध्यन किया। रिसर्च डेटा में सामने आया कि जैसे ही इन दोनों जगहों पर मास्क जरूरी किया गया तो मामले कम होने लगे।

इजराइल की औद्योगिक राजधानी तेल अवीव के एक रेस्टोरेंट में मास्क पहनकर बैठीं महिलाएं। गुरुवार को टेक्सॉस और कैलिफोर्निया में हुई एक स्टडी की रिपोर्ट जारी की गई। इसमें कहा गया है कि संक्रमण को रोकने के लिए सबसे अच्छा विकल्प मास्क है।

इटली: बच्चों पर खतरा
इटली के पब्लिक सेफ्टी डिपार्टमेंट ने एक बयान में कहा है कि देश में महामारी की शुरुआत से अब तक 4564 बच्चे संक्रमित हो चुके हैं। इतना ही नहीं चार बच्चों की मौत भी हो चुकी है। संक्रमित बच्चों में ज्यादातर की उम्र 7 से 17 साल के बीच है। बीमारी से मारे गए सभी बच्चे सात साल से कम उम्र के थे। सभी संक्रमित बच्चों को इलाज घर पर ही किया गया। सिर्फ 100 बच्चों को ही अस्पतालों में भर्ती कराया गया था। बयान के मुताबिक, अगर स्कूलों को बंद नहीं किया गया होता तो संक्रमित बच्चों की संख्या ज्यादा हो सकती थी।

मैक्सिको : राहत के संकेत नहीं
लैटिन अमेरिका में संक्रमण के मामले कम होते नहीं दिखते। ब्राजील और पेरू के बाद मैक्सिको में भी महामारी तेजी से फैल रही है। सरकार ने कुछ सख्त पाबंदियां लगाई हैं। बाजार बंद हैं लेकिन, इसके बावजूद मामले कम नहीं हो रहे। गुरुवार को यहां 4790 नए केस सामने आए। देश में कुल संक्रमितों की संख्या 1 लाख 33 हजार 974 हो गई। 24 घंटे में 587 लोगों की मौत हुई। मरने वालों का आंकड़ा 15 हजार 944 हो गया। सरकार ने खुद कहा है कि मरने वालों और संक्रमितों की तादाद इससे ज्यादा हो सकती है।

मैक्सिको में भी मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे। इस छोटे से देश में गुरुवार को करीब पांच हजार नए संक्रमितों की पुष्टि हुई। सरकार ने खुद माना है कि संक्रमितों और मरने वालों का आंकड़ा ज्यादा होने की आशंका है। फोटो मैक्सिको सिटी के एक ट्रैफिक सिग्नल के करीब मास्क लगाकर खड़ी महिला की है।

पाकिस्तान : फिर तेजी से बढ़े मामले
इमरान खान सरकार की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। देश में गुरुवार को लगातार दूसरे दिन 6 हजार से ज्यादा नए संक्रमितों की पुष्टि हुई। डॉन न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, संक्रमितों की संख्या सरकारी आंकड़ों पर आधारित है और हकीकत में मामले बहुत ज्यादा हो चुके हैं। नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन के सांसद ख्वाजा आसिफ ने गुरुवार को कहा कि इमरान सरकार मुल्क को संभालने में हर मोर्चे पर नाकाम रही है। आसिफ ने कहा- अब ऊपर वाला ही इस मुल्क की हिफाजत कर सकता है।

पाकिस्तान में बुधवार के बाद गुरुवार को भी यानी लगातार दूसरे दिन 6 हजार से ज्यादा संक्रमितों की पुष्टि हुई। विपक्षी सांसद और पूर्व सांसद ख्वाजा आसिफ ने कहा कि अब ऊपर वाला ही मुल्क की हिफाजत कर सकता है। यहां अब भी ज्यादातर लोग न तो मास्क लगा रहे हैं और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। फोटो गुरुवार को कराची के एक बाजार से गुजरती महिला की है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


न्यूयॉर्क में बार्बर शॉप खोल दिए गए हैं। हालांकि, बाल काटने के दौरान भी ग्राहक और कर्मचारियों की सुरक्षा का ध्यान रखा जा रहा है।

About The Author

Originally published on www.bhaskar.com

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *