19 देशों के साथ भारतीय सेना ने दमखम दिखाई; रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- यह हमारे लिए गर्व की बात



रूस में बुधवार को 75वींविक्ट्री डे परेड मॉस्को के रेड स्क्वॉयर भारत के समय के हिसाब से दोपहर 12.30 बजे शुरू हुई। इस मौके परभारत के रक्षा मंत्रीराजनाथ सिंह भी मौजूद हैं।भारतीय सेना की एक टुकड़ी इसमें हिस्सा ले रहीहै। 75 सदस्यों वाली इस टुकड़ी में आर्मी, एयरफोर्स और नेवी के सैनिक शामिल हैं। इनकी अगुआई सिख लाइट इनफैंट्री रेजिमेंट के मेजर रैंक के अफसर कर रहे हैं। इस रेजिमेंट ने दूसरे वर्ल्ड वारमें हिस्सा लिया था। इस जंग में लड़ने के लिए इसने चार बैटल ऑनर और दो मिलिट्री क्रॉस समेत कई वीरता पुरस्कार हासिल किए थे।

राजनाथ ने ट्वीट किया- 1941-1945 की लड़ाई में सोवियत लोगों की जीत की 75वीं सालगिरह मनाने के लिए मॉस्को में रेड स्क्वॉयर पर विक्ट्री परेड डे में शामिल हुआ। मुझे गर्व है कि भारत की तीनों सेनाओं की टुकड़ी भी इस परेड में भाग ले रही है।

परेड में हिस्सा लेती भारतीय सेना की टुकड़ी। भारत की आर्मी, एयरफोर्स और नेवी के सैनिक इसमें शामिल हुए।

परेड में पहले भी शामिल होती रही है भारतीय सेना

रूस के विक्ट्री डे परेड में इस साल सेना की तीन महिला अफसर शामिल हुईं।रूस के विक्ट्री डे परेड में पहले भी भारतीय सेना शामिल होती रही है। 2015 में माॅस्को में हुई परेड मेंग्रेनेडियर रेजिमेंट की टुकड़ी ने हिस्सा लिया था। इसके साथ ही दुनिया के 19देशों की सेना शामिल हो रही है। सोवियत रिपब्लिक का हिस्सा रहे देशों की सेना को इसके लिए खास तौर पर बुलावा भेजा गया था।

विक्ट्री परेड डे के दौरान रूस के सु-25 जेट एयरक्राफ्ट ने फ्लाई पास्ट किया। इनसे निकलने वाला धुआं रूस के नेशनल फ्लैग के कलर का था।
रेड स्क्वॉयर पर विक्ट्री परेड डे के मौके पर मार्च करते रूस के सैनिक
मॉस्को में रेड स्क्वॉयर पर विक्ट्री डे परेड के मौके पर मार्च करते रूस के नौसैनिक।

मॉस्को में रेड स्क्वॉयर में विक्ट्री डे परेड के दौरान रूसी सैनिकों ने मार्च निकाला।

रूस के 13 हजार सैनिक परेड में शामिल

परेड में रूस के 13 हजार सैनिक, आर्मीके234 व्हीकल, मिसाइल और टैंकों के साथ शामिल हुए हैं। रूस की सेना ने तोपों की सलामी दी। 75 प्लेन ने फ्लाईपास्ट में हिस्सा लिया।चीन समेत कई दूसरे देशों के नेताओं को भी इस आयोजन में शामिल होने का न्योता दिया गया है। रूस हर साल जर्मनी के नाजियों से यूनियन ऑफ सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक्स (यूएसएसआर) की जीत की याद में विक्ट्री डे मनाता है।

मॉस्को में विक्ट्री डे परेड के दौरान रूसी सैनिकों ने तोपों की सलामी दी
विक्ट्री डे परेड के दौरान रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु और रूसी सेना प्रमुख ओलेग सल्यूकोव ने एक-दूसरे को सलामी दी।

इस साल विक्ट्री डे परेड में देरी हुई
पहले यह परेड 9 मई को होनी थी, लेकिन कोरोना की वजह से लॉकडाउन हो गया था। ऐसे में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने परेड का शेड्यूल आगे बढ़ाने की घोषणा की थी। रूस की राजधानी मॉस्को में अब कुछ पाबंदियां हटाई गई हैं। हालांकि, यह राहत सिर्फ परेड के लिए है।

लोगों से की गई घरों में ही रहने की अपील

मॉस्को के मेयर सर्गेइ सोबयानिन नेलोगों से अपील की है कि वे घरों में ही रहें और टेलीविजन पर परेड देखें। सेरेमनीदेखने के लिए बुलाए गए पूर्व सैनिकों को भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बैठाया जाएगा। मॉस्को के साथ ही रूस के कई दूसरे शहरों में इस मौके पर परेड निकाली गई।

रेड स्क्वॉयर में विक्ट्री डे परेड के दौरान रूस की महिला सैनिकों की टुकड़ी मार्च करती हुई।

पुतिन के लिए खास है इस बार की परेड
इस हफ्ते रूस में संविधान में बदलाव के लिए वोटिंग होनी है। इससे पुतिन के 2024 के बाद भी सत्ता में बने रहने का रास्ता साफ हो सकता है। इसलिएइस साल की विक्ट्री डे परेडपुतिन के लिए अहम मानी जा रही है। पुतिन देश में राष्ट्रवाद की भावना के लिए विक्ट्री डे को काफी तवज्जो देते हैं। उन्होंने 2008 से इस परेड में हथियारों और टैंकों को शामिल करने की शुरुआत की थी।

चीन की सेना की टुकड़ी भी इस परेड में शामिल हुई। इसमें चीन समेत कई देशों की सेना को बुलाया गया है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


मॉस्को में 75वीं विक्ट्री डे परेड में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी शामिल हुए। इस दौरान भारतीय सेना ने भी अपनी ताकत दिखाई।

About The Author

Originally published on www.bhaskar.com

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *