केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा- चीन ने राजीव गांधी फाउंडेशन को डोनेशन दिया, कांग्रेस बताए कि उसने किस शर्त पर रुपये लिए



पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी पर भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सरकार पर हमलावर कांग्रेस के खिलाफ अब भाजपा ने भी मोर्चा खोल दिया है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गुरुवार को आरोप लगाया कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन ने 2005-06 मेंतीन लाख डॉलर (करीब 2 करोड़ 26 लाख रुपए) का डोनेशन दिया था। उन्होंने कांग्रेस से सवाल किया कि यह रुपए किन शर्तों पर लिए गए और इनरुपयोंका क्या किया गया?

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकाल में चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा किया।कांग्रेस बताए कि राजीव गांधी फाउंडेशन को यह रुपए चीन के साथ फ्री ट्रेड एग्रीमेंट (एफटीए) यानी कि बिना रोक-टोक के आयात-निर्यात को प्रमोट करने के लिए मिले। मालूम हो कि डोनेशन देने की जब शुरूआत हुई थी, तबराजीव गांधी फाउंडेशन ने कई सारे स्टडीज का हवाला देते हुए बताया था कि भारत और चीन के बीच एफटीएबेहद जरूरी है।

राजीव गांधी फाउंडेशन को पॉलिटिकल एसोसिएशन बताया
केंद्रीय कानून मंत्री ने बताया कि फॉरेन कांट्रीब्यूशन रेगुलेशन एक्ट के तहत कोई भी राजनीतिक पार्टी विदेश से पैसा नहीं ले सकती है। साथ ही कोई भी एनजीओ बिना सरकार की अनुमति के विदेश से रुपया नहीं ले सकता है। कांग्रेस बताए कि इस डोनेशन के लिए क्या सरकार से मंजूरी ली गई थी? उन्होंने आरोप लगाया कि राजीव गांधी फाउंडेशन एजुकेशन एंड कल्चरल बॉडी नहीं है। यह एक पॉलिटिकल एसोसिएशन है।

सोनिया गांधी फाउंडेशन की चेयरपर्सनहैं

कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी, राजीव गांधी फाउंडेशन की चेयरपर्सन हैं।पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी इस बोर्ड के सदस्य हैं।

डोकलाम विवाद में राहुल ने चीन के एम्बेसडर से चुपचाप बात की थी: नड्‌डा
भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने मध्य प्रदेश में जनसंवाद रैली में कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि डोकलाम विवाद के दौरान राहुल गांधी ने चीन के एम्बेसडर से चुपचाप बात की थी। मौजूदा समय में गलवान वैली की झड़प के दौरान भी कांग्रेस देश को भ्रम में डाल रही है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया कि राजीव गांधी फाउंडेशन एजुकेशन एंड कल्चरल बॉडी नहीं है। यह एक पॉलिटिकल एसोसिएशन है। – फाइल फोटो

About The Author

Originally published on www.bhaskar.com

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by Dragonballsuper Youtube Download animeshow