Breaking News

आख़िरकार उत्तर प्रदेश सरकार ने किया आईजी अमिताभ ठाकुर निलम्बित

u.p police
लखनऊ(13 जुलाई 2015)- सूबे के मुखिया के पिता और पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव द्वारा कथित रूप से धमकी दिये जाने के ऑडियो को लेकर मुलायम सिंह यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने पहुंचे आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर को निलंबित कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश शासन द्वारा अमिताभ ठाकुर, पुलिस महानिरीक्षक नागरिक सुरक्षा को स्वेच्छाचारिता, अनुशासनहीनता, शासन विरोधी दृष्टिकोण, उच्चन्यायालय के निर्देशों की अनदेखी, अपने पद से जुड़े दायित्वो एवं कर्तव्यो के प्रति उदासीनता व नियमो आदि के उल्लंघन मे प्रथम-दृष्टया दोषी पाते हुए तात्कालिक प्रभाव से निलम्बित करने का निर्णय लिया गया है।
उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा जारी एक रिलीज़ के मुताबिक़ अमिताभ ठाकुर निलम्बन की अवधि में पुलिस महानिदेशक कार्यालय से सम्बद्ध रहेगे तथा उनकी पूर्वानुमति के बिना मुख्यालय नही छोड़ेगे।
उल्लेखनीय है कि अमिताभ ठाकुर,आईपीएस को उच्च न्यायालय, खण्डपीठ, लखनऊ द्वारा एक रिट याचिका के संबंध में पारित निर्णय में आदेशित किया गया था कि सरकारी सेवा में रहते हुए शासन की अनुमति प्राप्त किये बिना लोकहित याचिका योजित न की जाये। उच्च न्यायालय द्वारा यह भी निर्देशित किया गया कि शासन की अनुमति के बिना कोई भी लोकसेवक इस प्रकार की लोकहित याचिका दाखिल नहीं करेगा जब तक संगत प्रकरण में उसके व्यक्तिगत हित अन्तर्निहित न हों।
लेकिन शासन का आरोप है कि अमिताभ ठाकुर द्वारा नियम-विरूद्ध ढंग से और उच्च न्यायालय के उक्त निर्देशों की अवहेलना करते हुए अनेक याचिकायें योजित की गयी हैं। साथ ही ठाकुर द्वारा अपने अधिकार-क्षेत्र के बाहर जाकर शासन एवं विभिन्न शासकीय विभागों के प्रकीर्ण प्रकरणों की स्वस्फूर्त जाँच बिना किसी अधिकार के तथा बिना सक्षम अधिकारी की अनुमति के की गयी तथा मीडिया के माध्यम से शासन की नीतियों एवं अधिकारियों के विरूद्ध बिना समुचित एवं औचित्यपूर्ण कारणों के बयानबाजी की गई। उनके इस आचरण से पुलिस विभाग में अनुशासनहीनता को बढ़ावा मिल रहा है तथा जनता में शासन व पुलिस विभाग की छवि धूमिल हुई है।
उत्तर प्रदेश शासन द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि अमिताभ ठाकुर के द्वारा नियमों की अवहेलना करते हुए बिना अनुमति के विभिन्न संगठनों की बैठकों में भाग लेने, सरकारी संसाधनों का दुरूपयोग करने, जनता को उकसाकर अथवा दिग्भ्रमित करके शासकीय अधिकारियों के कार्यो में बाधा पहुँचाने, पुलिस प्रशासन एवं शासन की छवि को धूमिल करने संबंधी क्रियाकलापों में संलिप्त होने, राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के विरूद्ध सार्वजनिक रूप से गरिमाविहीन एवं आपत्तिजनक टिप्पणी करने, मुख्यालय पुलिस महानिदेशक के सामने धरना देने, अखिल भारतीय सेवायें (आचरण) नियमावली, 1969 के अन्तर्गत वार्षिक सम्पत्ति विवरण त्रुटिपूर्ण एवं अनियमित ढंग से पे्रषित करने, अपनी शासकीय क्षमता एवं सरकारी संसाधनों का अनुचित प्रयोग करके सरकारी विभागों से सूचनाएँ प्राप्त कर उनके आधार पर अपनी पत्नी के माध्यम से तथा स्वयं भी जनहित याचिकाएँ दाखिल कराने के तथ्य भी शासन के संज्ञान में आये।

About The Author

आज़ाद ख़ालिद टीवी जर्नलिस्ट हैं, सहारा समय, इंडिया टीवी, वॉयस ऑफ इंडिया, इंडिया न्यूज़ सहित कई नेश्नल न्यूज़ चैनलों में महत्वपूर्ण पदों पर कार्य कर चुके हैं। Read more

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by Dragonballsuper Youtube Download animeshow